Monday, February 27, 2017

भगवान शिव की महापूजा का पर्व है शिवरात्रि
त्रिनेत्रधारी भगवान शिव की महापूजा का पावन पर्व है शिवरात्रि, जिसमें व्रत, उपवास, पूजापाठ, मंत्र साधना, रात्रि जागरण आदि के द्वारा अपनी इंद्रियों को नियंत्रित कर शिव तत्व को प्राप्त किया जा सकता है। शिव सौम्य हैं, सरल हैं तो काल रूप में महाकाल हैं। संपूर्ण ब्रह्मांड में आध्यात्मिक चेतना के महाशिखर हैं शिव। सृष्टि के आरम्भ में मध्य रात्रि में फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को ब्रह्मा से रूद्र के रूप में शिव का अवतरण हुआ, इसलिए शिव रौद्र रूप भी हैं। पौराणिक अभिव्यक्ति में शिवरात्रि शिव और पार्वती के विवाह की शुभ रात्रि है, वहीं शिव ने प्रलय काल में शिवलिंग के रूप में जन्म लिया और ब्रह्मा एवं विष्णु ने रात्रि में ही शिवलिंग की आराधना की, इसलिए शिव को शिवरात्रि विशेष प्रिय है।
शिवपूजन एवं उपवास की विधि 
शिवरात्रि के दिन व्रत और उपवास रखते हुए श्रद्धानुसार शिवलिंग पर गंगाजल, दूध, दही, शहद, घी, गन्ने का रस, सरसों या तिल का तेल, केसर, भांग, धतूरा, आक, बेलपत्र, अक्षत, काले तिल, पुष्प आदि अर्पित करते हुए रुद्राभिषेक किया जाता है। शिव पूजन के समय रुद्राक्ष धारण करना और ॐ नमः शिवाय एवं महामृत्युंजय मंत्र का निरंतर जप करना शुभ होता है। भगवान शिव की पूजा में तुलसी पत्र, हल्दी, शंख का जल, चंपा, कदंब, सेमल, अनार, मदंती, बहेड़ा, जूही, कैथ आदि के पुष्प अर्पित करना निषिद्ध है। शिव पूजन के लिए सर्वश्रेष्ठ स्थान शिवालय अर्थात शिव मंदिर है परंतु शिव मंदिर न होने की दशा में बेलपत्र या पीपल के वृक्ष के पास भी शिव पूजन किया जा सकता है। 
 शिव पूजन का महत्व
शिवरात्रि पर व्रत, उपवास, मंत्रोच्चार,और रात्रि जागरण करने से तन और मन की शुद्धि तो होती ही है, भय, रोग, कष्ट, दुघटना भय और अन्य समस्याओं से भी छुटकारा मिलने लगता है। जिन जातकों की कुंडली में पीड़ादायक ग्रहों की दशा या अंतर्दशा के कारण घर-परिवार में वियोग, कलह, अशांति, धन की कमी, दुःख, असहनीय कष्ट आदि आ रहे हों तो उन्हें शिवरात्रि पर शिव की आराधना अवश्य करनी चाहिए। वास्तु शास्त्र के अनुसार पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके शिवलिंग पर बेलपत्र और जलधारा चढ़ाने से जीवन में सुख, शांति, धन-संपदा, प्रसन्नता, अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है। अयोध्या कांड के आरंभ में वर्णित शिव के दिव्य स्वरुप का नियमित पाठ करने से सभी कष्ट, परेशानियां, तनाव और समस्याओं का निदान होने लगता है। काल सर्प दोष वाली कुंडली के जातकों को शिवरात्रि पर प्रातः स्नान के बाद चांदी और तांबे के सर्प का एक-एक जोड़ा अपने शरीर से ग्यारह या इक्कीस बार उसार कर बहते जल में प्रवाहित करने और फिर नियम पूर्वक हर सोमवार को शिवलिंग पर जलाभिषेक करने से लाभ मिलता है।जिन कन्याओं के विवाह में किन्हीं  परेशानियों की वजह से विलंब हो रहा हो तो उन्हें भी शिवरात्रि  के दिन शिव एवं पार्वती का पूजन कर सोलह सोमवार के व्रत रखने चाहिए तथा रामचरित मानस ,इन वर्णित शिव-पार्वती विवाह के प्रसंग का पाठ करना चाहिए। शनि की साढ़े साती या ढईया से प्रभावित जातकों को शिवलिंग का सरसों के तेल से अभिषेक करते हुए महामृत्युंजय मंत्र का जप करना चाहिए। राहु एवं केतु के अशुभ प्रभाव को दूर करने के लिए शिवलिंग पर काले तिल और पंचामृत अर्पित करने से लाभ होता है।--- प्रमोद कुमार अग्रवाल, ज्योतिषविद, आगरा 
   

No comments: