Saturday, February 14, 2015

जूता गांठने वालो को मिलेंगी दुकान

 आगरा। जिला समाज कल्याण अधिकारी एस0एस0यादव ने अवगत कराया है कि जूता गांठने वाले अनुसूचित जाति के गरीबी की रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले कारीगरों के लिए निःशुल्क भूमि पर दुकान निर्माण योजना संचालित की गई है, जिसमें 13.32 वर्गमीटर साइज की दुकान हेतु प्रति व्यक्ति कुल 2.28 लाख रूपये की धनराशि स्वीकृत की जायेगी। सर्वप्रथम 1.50 लाख रूपये स्थल क्रय हेतु अनुदान दिया जायेगा एवं दुकान निर्माण हेतु रूपये 78 हजार रूपये पृथक से दिया जायेगा जिसमें 10 हजार शासकीय अनुदान एवं 68 हजार ब्याज मुक्त ऋण की धनराशि होगी। 
     यह योजना गरीबी रेखा से नीचे जीवन करने वाले ग्रामीण क्षेत्र के 19884/- रुपये तथा शहरी क्षेत्र के 25546/- रूपये अधिकतम आय वाले सड़कों पर जूता गांठने वाले अनुसूचित जाति के कारीगरों के लिए है। अधिक जानकारी के लिए किसी भी कार्यदिवस में  विकास भवन संजय प्लेस स्थित जिला समाज कल्याण अधिकारी (विकास) /पदेन जिला प्रबंधक, उ0प्र0 अनु0जाति वित्त एवं विकास निगम लि0 से सम्पर्क किया जा सकता है।  

Friday, February 6, 2015

मतदान हेतु सवैतनिक अवकाश अनुमन्य

  सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी भारत सिंह ने अवगत कराया है कि दिल्ली राज्य में विधान सभा समान्य निर्वाचन-2015 के विभिन्न निर्वाचन क्षेत्रों की निर्वाचक नामावली में सम्मिलित ऐसे पात्र मतदाताओं, जिसमें दैनिक श्रमिक भी सम्मिलित है, तथा जो उक्त निर्वाचन क्षेत्र के बाहर के क्षेत्रों में आजीविका के संदर्भ में कार्यरत है, को अपने मत का प्रयोग करने के लिए मतदान दिवस को सवैतनिक अवकाश अनुमन्य किया जाएगा। 

विधवा पेंशन लाभाथी सी0बी0एस0 खाता संख्या दें

   जिला प्रोबेशन अधिकारी/ज्वाइन्ट मजिस्ट्रेट आर0उमा0 महेश्वरी ने अवगत कराया है कि प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न विकास योजनाओं के अन्तर्गत पात्र लाभार्थियों के डाटाबेस का डिजिटाइजेशन तथा प्रत्येक लाभार्थियों का आधार नम्बर नामांकन से लिंक किये जाने के निर्देश प्राप्त हुये है। उन्होंने बताया कि महिला कल्याण विभाग द्वारा संचालित की जा रही पति की मृत्युपरान्त निराश्रित महिला पेंशन (विधवा पेंशन) योजना के लाभार्थियों  के आच्छादन में सुधार हेतु डेटाबेजस का डिजिटाइजेशन तथा मार्च 2015 तक इस डाटा को आधार लिंक किया जाना है। 
     उन्होंने सम्बन्धित लाभार्थियों से अपेक्षा की है कि महिला का नाम, मृत पति का नाम, पता, सी0बी0एस0 खाता संख्या, मोबाइल नम्बर, दो पासपोर्ट साइज फोटो तथा आधार कार्ड नम्बर की जानकारी का विवरण तत्काल कलेक्ट्रेट स्थित उनके कार्यालय में उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें, ताकि सरकार की मंशा के अनुसार लाभार्थियों का डाटाबेस का डिजीटाइजेशन की कार्यवाही पूर्ण कर शासन को प्रेषित की जा सके।