Wednesday, March 5, 2014

राष्ट्रीय लोक अदालत 12 अप्रैल, 2014 को लगेगी

    राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के मुख्य संरक्षक एवं भारत के सर्वोच्च न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति पी. सदाशिवम और राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यवाहक अध्यक्ष एवं सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति  आर. एम. लोधा द्वारा प्रदत्त दिशा-निर्देशों के अंतर्गत आगामी 12 अप्रैल, 2014 द्वितीय शनिवार को तहसील स्तर से लेकर सर्वोच्च न्यायालय स्तर तक राष्ट्रीय वृहद् लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। 
    आगरा के ज़िला एवं सत्र न्यायाधीश एवं ज़िला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष विजय प्रताप सिंह ने बताया कि इस लोक अदालत में मोटर दुर्घटना प्रतिकर वाद, दीवानी वाद, शमनीय फौज़दारी वाद, स्टाम्प वाद, राजस्व वाद, श्रम वाद, विद्युत अधिनियम के अंतर्गत वाद, सेवा सम्बन्धी वाद, परक्राम्य लिखत अधिनियम के अंतर्गत चैक अनादरण के वाद, पारिवारिक और वैवाहिक मामले, बैंक वसूली के वाद, किरायेदारी वाद, भूमि अध्याप्ति वाद, स्थानीय विधियों के अंतर्गत शमनीय वाद, वन अधिनियम के वाद, पुलिस अधिनिय के वाद, मनोरंजन कर अधिनियम के वाद, बाँट और माप अधिनियम के वाद, विकास प्राधिकरण के चालान, जलकर, गृहकर, रेलवे सम्बन्धी प्रकरण, चकबंदी वाद तथा लोक अदालत की परिधि में आने वाले समस्त प्रकार के वादों का निस्तारण किया जायेगा। 
    श्री सिंह ने समस्त अधिवक्ताओं और वादकारियों से राष्ट्रीय लोक अदालत में अपने-अपने विचाराधीन वादों का निस्तारण कराये जाने की अपील की है।(न्यूज़लाइन समाचार)  

विद्युत उपभोक्ताओं के लिए एस. एम. एस. सेवा शुरू

उत्तर प्रदेश के विद्युत उपभोक्ताओं की सुविधा के लिए मुख्यमन्त्री अखिलेश यादव ने मोबाइल एस. एम. एस. सेवा का शुभारम्भ किया है। इसके अंतर्गत विद्युत उपभोक्ताओं को उनके मोबाइल पर मेसेज के माध्यम से बिल से संबंधित सूचना, भुगतान प्राप्ति, कनेक्शन काटने का नोटिस, मीटर की खराबी, विद्युत आपूर्ति भंग होने तथा  विद्युत चोरी आदि से सम्बंधित सूचना प्राप्त हो सकेगी। फिलहाल पहले चरण में प्रदेश के करीब पचास लाख विद्युत उपभोक्ताओं को यह सुविधा मिलेगी, इसमें राजधानी लखनऊ के सात लाख उपभोक्ता शामिल हैं।[न्यूज़लाइन समाचार]

मिड-डे-मील के लिए टोल फ्री नंबर

उत्तर प्रदेश में मिड-डे-मील योजना में गड़बड़ी रोकने के लिए मध्याह्न भोजन प्राधिकरण द्वारा टोल फ्री नंबर 1800 419 0102 जारी किया गया है। इसके लिए कंट्रोल रूम बनाया गया है। मिड-डे-मील में किसी तरह की गड़बड़ी की शिकायत कोई भी व्यक्ति अथवा अभिभावक इस टोल फ्री नंबर पर दर्ज़ सकते हैं।[न्यूज़लाइन समाचार]

दृष्टि बाधित पर्यटक भी पढ़ सकेंगे ताजमहल का इतिहास

    दृष्टि बाधित पर्यटक भी अब विश्व प्रसिद्द ताजमहल का इतिहास पढ़ सकेंगे। ऐसे पर्यटकों के लिए ताजमहल परिसर में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के सहयोग से ब्रेल लिपि में सांस्कृतिक सूचना पट लगाया गया है। ज़िलाधिकारी आगरा मनीषा त्रिघाटिया ने सूचना पट का उदघाटन करते हुए भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के प्रयास की सराहना की और कहा कि समाज के सभी लोगों को दृष्टि बाधित वर्ग की सुविधा का ध्यान रखना चाहिए।
     अधीक्षक पुरातत्वविद एन. के. पाठक ने बताया कि भोपाल के आरुषि नामक गैर सरकारी संगठन की मदद से मेटल शीट पर ब्रेल लिपि में यह सूचना पट लगाया गया है। अंग्रेजी भाषा के इस सूचना पट को छूकर दृष्टि बाधित पर्यटक ताजमहल के इतिहास को जान सकेंगे। संरक्षण सहायक मुनज्जर अली और सहायक अधीक्षण पुरातत्व अभियंता एम. सी. शर्मा ने इस सूचना पट को ताजमहल परिसर में उचित स्थान पर स्थापित कराया है। [न्यूज़लाइन समाचार]