Wednesday, March 5, 2014

राष्ट्रीय लोक अदालत 12 अप्रैल, 2014 को लगेगी

    राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के मुख्य संरक्षक एवं भारत के सर्वोच्च न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति पी. सदाशिवम और राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यवाहक अध्यक्ष एवं सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति  आर. एम. लोधा द्वारा प्रदत्त दिशा-निर्देशों के अंतर्गत आगामी 12 अप्रैल, 2014 द्वितीय शनिवार को तहसील स्तर से लेकर सर्वोच्च न्यायालय स्तर तक राष्ट्रीय वृहद् लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। 
    आगरा के ज़िला एवं सत्र न्यायाधीश एवं ज़िला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष विजय प्रताप सिंह ने बताया कि इस लोक अदालत में मोटर दुर्घटना प्रतिकर वाद, दीवानी वाद, शमनीय फौज़दारी वाद, स्टाम्प वाद, राजस्व वाद, श्रम वाद, विद्युत अधिनियम के अंतर्गत वाद, सेवा सम्बन्धी वाद, परक्राम्य लिखत अधिनियम के अंतर्गत चैक अनादरण के वाद, पारिवारिक और वैवाहिक मामले, बैंक वसूली के वाद, किरायेदारी वाद, भूमि अध्याप्ति वाद, स्थानीय विधियों के अंतर्गत शमनीय वाद, वन अधिनियम के वाद, पुलिस अधिनिय के वाद, मनोरंजन कर अधिनियम के वाद, बाँट और माप अधिनियम के वाद, विकास प्राधिकरण के चालान, जलकर, गृहकर, रेलवे सम्बन्धी प्रकरण, चकबंदी वाद तथा लोक अदालत की परिधि में आने वाले समस्त प्रकार के वादों का निस्तारण किया जायेगा। 
    श्री सिंह ने समस्त अधिवक्ताओं और वादकारियों से राष्ट्रीय लोक अदालत में अपने-अपने विचाराधीन वादों का निस्तारण कराये जाने की अपील की है।(न्यूज़लाइन समाचार)  

No comments: