Thursday, December 27, 2012

कुंडली से जानिये रोगों के बारे में

ज्योतिष शास्त्र में जन्म कुंडली के द्वारा जातक को होने वाले रोगों का भी पता लगाया जा सकता है। कुंडली के षष्टम भाव में स्थित राशि, भाव के स्वामी तथा इस भाव पर पड़ने वाले विभिन्न ग्रहों के प्रभाव के अध्ययन से स्वास्थ्य संबंधी जानकारी मिल सकती है। फलित ज्योतिष के अनुसार सूर्य ग्रह के कुपित होने से जातक को सिर व मष्तिष्क,ह्रदय,नेत्र एवं कर्ण रोग,अस्थि भंग,शारीरिक कमजोरी, शरीर में जलन जैसी समस्याएं होने का अंदेशा रहता है। चन्द्र ग्रह के प्रभाव से मानसिक रोग, नींद न आना, रक्त विकार, ब्लड प्रेशर, रक्त की कमी, जल से भय तथा उन्माद होने का अंदेशा रहता है।
मंगल ग्रह के कुपित होने से पित्त विकार, त्वचा रोग, टाय़फाइड और अपेंडिक्स हो सकते हैं। वहीं बुध ग्रह के कारण वात, पित्त और कफ से सम्बंधित रोग, नाक एवं गले के रोग तथा बुद्धि की कमी की संभावनाएं रहती हैं। गुरु ग्रह के कुपित होने से गठिया, कमर व जोड़ों में दर्द, शरीर में सूजन, कब्ज़ आदि समस्याएं होने लगती हैं। यदि शुक्र ग्रह कुपित हो तो जातक को वात एवं कफ रोग होने के साथ-साथ शरीर के अंदरूनी हिस्सों में रोग होने की संभावनाएं रहती हैं।
शनि ग्रह के कुपित होने से वात एवं कफ रोग, कैंसर, श्वसन रोग, रक्त की कमी जैसे रोग होने लगते हैं। यदि जातक राहु ग्रह से प्रकोपित हो तो उसे संक्रामक रोग, रक्त की कमी, ह्रदय रोग, विष जनित रोग तथा हाथ और पेरों में दर्द जैसी समस्याएं होने लगती हैं। यदि केतु ग्रह कुपित हो तो जातक त्वचा रोग, पित्त विकार, पाचन संबंधी रोग और हैजा का शिकार हो सकता है। --प्रमोद कुमार अग्रवाल

Thursday, December 20, 2012

महिलाओं के साथ अपराध शर्मनाक 
युवतियों एवं महिलाओं के साथ दिनों दिन बढती बलात्कार और छेड़छाड़ की घटनाएँ सभ्य और पढ़े लिखे समाज के लिए शर्मनाक है। इन घटनाओं से ये पता चलता है की हमारे समाज की सोच कितनी नीचे गिर चुकी है। इस तरह की घटनाओं में लिप्त पुरुष समाज ये क्यों भूल जाता है कि वह जिसके साथ इस तरह की हरकत कर रहा है वह वो नारी जिसने उसको जन्म दिया है। 
महिलाओं के साथ अत्याचार और अनाचार दंडनीय अपराध है परन्तु पुलिस और प्रशासन की ढील के कारण अपराधियों के हौसले बुलंद रहते है। महिलाओं के प्रति अपराधों पर अंकुश लगा कर ही हम अपने समाज के अस्तित्व को बनाये रख सकते है। -प्रमोद कुमार अग्रवाल

Saturday, December 8, 2012

Seizure of vehicle by Bank or Financial Company is illegal

In case of non payment of installment of loan amount taken by any person (borrower) for purchase of vehicle, the concerned Bank or Finance Company has no right to seize that vehicle. Justice Ashok Bhushan and Justice S.S.Tiwari of Hon'ble High Court Allahabad has decided a Civil Writ Petition on 06/12/2010 and held that if any borrower faild to pay loan amount, Bank or Finance Company has right to file a Civil or Criminal suit for the recovery of loan amount. They can not seize that vehicle. (based on 2011 (1) ALJ 663) -Pramod Kumar Agrawal


Monday, December 3, 2012

GET INFORMATION UNDER RTI,ACT,2005

## RIGHT TO INFORMATION ACT, 2005 IS USEFUL FOR ALL PERSONS WHO WANT TO GET ANY INFORMATION FROM ANY GOVERNMENT DEPARTMENT , CORPORATION ,  LOCAL BODY , GOVERNMENT AIDED SOCIAL ORGANISATION  AND OTHERS.

## INFORMATIONS CAN BE OBTAINED FROM ANY DEPARTMENT  BY APPLYING WITH REQUISITE  FEE THROUGH DEMAND DRAFT, INDIAN POSTAL ORDER OR CASH.

## CONCERN DEPARTMENT IS BOUND TO GIVE THE INFORMATIONS WITHIN THIRTY DAYS.

## IF APPLICANT CAN NOT GET THE INFORMATIONS OR HE GETS WRONG OR INCOMPLETE INFORMATION,  HE MAY FILE AN APPEAL TO THE APPELLATE AUTHORITY OF THE DEPARTMENT WITHIN THIRTY DAYS.

## IN CASE OF URGENT MATTER THE TIME LIMIT OF INFORMATION IS 48 HOURS.

## IF THE INFORMATIONS NOT RECEIVED BY THE APPLICANT  THEN HE  MAY FILE A COMPLAINT TO THE STATE INFORMATION COMMISSION OF HIS STATE IN CASE OF STATE GOVERNMENT MATTER.

## IN CASE OF CENTRAL GOVERNMENT MATTER, COMPLAINT MAY FILE BEFORE NATIONAL INFORMATION COMMISSION, NEW DELHI.

## THE PUBLIC INFORMATION OFFICER MAY BE PUNISHED BY THE INFORMATION COMMISSION IF HE IS FOUND GUILTY. THE AMOUNT OF FINE MAY EXTEND TWO HUNDRED FIFTY RUPEES PER DAY TO TOTAL AMOUNT RS. 25000/- 

--- PRAMOD KUMAR AGRAWAL 

PROTECT YOUR CONSUMER RIGHTS

The Consumer Protection Act, 1986 has been passed for better protection of the interest of consumers. Consumer means any person who buys any goods or hires or avails of any services for a consideration which has been paid or promised or partly paid and partly promised. For the purposes of this definition commercial purpose does not include use by a person of goods bought and used by him and services availed by him for the purpose of earning his livelihood by means of self employment.

Under this Act any consumer has right to file a complaint before District Consumer Forum, State Commission or National Commission, as the case may be, for protection of his right and to get compensation against the deficiency or defect or lack of services or restrictive trade practice.

Under this Act service means service of any description which is made available to potential facilities in connection with Banking, Transport, Roadways, Railway, Finance & Insurance, Housing Board, Avas and Vikas Parishad, Electricty Board, Telephone, Mobile Company & Postal Department, Courier Company, Entertainment, Hotels, Travel Company, Doctors & Hospitals and others, but does not include the rendering of any service free of charge or under a contract of personal service.

District Consumer Forum have jurisdiction to entertain complaints where the value of goods or services and the compensation, if any, claimed upto twenty lakhs rupees. 

State Commission have jurisdiction to entertain complaints where the value of goods or services and the compensation, if any, claimed exceeds twenty lakhs rupees but does not exceed one crore rupees. State Commission have also right to etertain the appeals against the orders of any District Forum within the State. 

National Commission have jurisdiction to entertain complaints where the value of goods or services and the compensation, if any, claimed exceeds one crore rupees. National Commission have also right to etertain the appeals against the orders of any State Commission. 

Under this Act any complaint may be filed before District Consumer Forum, State Commission or National Commission within two years from the date on which the cause of action arisen. In other hand an appel before State Commission or National Commission may be filed within thirty days from the date of the order passed by Consumer Forum or  State Commission, as the case may be.

Under Section 26 of this Act District Consumer Forum, State Commission or National Commission has right to dismiss the frivolous or vexatious complaints and also to make an order for cost upto ten thousand rupees against the complainant.

In case of non compliance of an order passed by District Consumer Forum, State Commission or National Commission by opposite party or any other person, District Consumer Forum, State Commission or National Commission has right to issue summon or warrant against such person through police officer and also to pass an order for attachment of property of such person. 

--Pramod Kumar Agrawal 

HOW TO REGISTER FIR OF INCIDENT

First Information Report (FIR) is a formal information of any incident given by aggrived person or any other person to any Police Officer or Police Station. FIR may be given in writing or orally.
Under Section 154 of The Criminal Procedure Code, 1973 Station Officer of the Police Station is bound to register the FIR given to him by any person for any Cognizable Offence.
If the Police Officer deny to register FIR, the aggrived person may send his report to the concerned Suprentendent of Police through Registered Post or Speed Post or Telegram or by E-mail.
In this condition Superentendent of Police has right to investigate the matter or he may transfer the matter to his any Subordinate Police Officer.
In case of Non Cognizable Offence Under Section 155 of The Criminal Procedure Code, 1973 the Police Officer of Police Station can register the FIR but he is not entitled to investigate in such matter without prior permission of concerned Magistrate.
Under Section 156 of The Criminal Procedure Code, 1973 Station Officer of the Police Station has right to investigate into the matter of Cognizable Offence without prior permission of Magistrate.
If  FIR has not been registerd by Station Officer of the Police Station or Suprentendent of Police, the aggrived person may file an application before the concerened Magistrate with request to pass an order to the Police Officer of Police Station or Suprentendent of Police for filling the FIR.
In this case Magistrate can pass an order to  Police Officer of Police Station or Suprentendent of Police to register and investigate the case.-- Pramod Kumar Agrawal

Friday, November 30, 2012

CONSUMER PROTECTION ACT, 1986

The Consumer Protection Act, 1986 has been passed for better protection of the interest of consumers. Consumer means any person who buys any goods or hires or avails of any services for a consideration which has been paid or promised or partly paid and partly promised. For the purposes of this definition commercial purpose does not include use by a person of goods bought and used by him and services availed by him for the purpose of earning his livelihood by means of self employment.


Under this Act any consumer has right to file a complaint before District Consumer Forum, State Commission or National Commission, as the case may be, for protection of his right and to get compensation against the deficiency or defect or lack of services or restrictive trade practice.

Under this Act service means service of any description which is made available to potential facilities in connection with Banking, Transport, Roadways, Railway, Finance & Insurance, Housing Board, Avas and Vikas Parishad, Electricty Board, Telephone, Mobile Company & Postal Department, Courier Company, Entertainment, Hotels, Travel Company, Doctors & Hospitals and others, but does not include the rendering of any service free of charge or under a contract of personal service.

District Consumer Forum have jurisdiction to entertain complaints where the value of goods or services and the compensation, if any, claimed upto twenty lakhs rupees.

State Commission have jurisdiction to entertain complaints where the value of goods or services and the compensation, if any, claimed exceeds twenty lakhs rupees but does not exceed one crore rupees. State Commission have also right to etertain the appeals against the orders of any District Forum within the State.

National Commission have jurisdiction to entertain complaints where the value of goods or services and the compensation, if any, claimed exceeds one crore rupees. National Commission have also right to etertain the appeals against the orders of any State Commission.

Under this Act any complaint may be filed before District Consumer Forum, State Commission or National Commission within two years from the date on which the cause of action arisen. In other hand an appel before State Commission or National Commission may be filed within thirty days from the date of the order passed by Consumer Forum or State Commission, as the case may be.

Under Section 26 of this Act District Consumer Forum, State Commission or National Commission has right to dismiss the frivolous or vexatious complaints and also to make an order for cost upto ten thousand rupees against the complainant.

In case of non compliance of an order passed by District Consumer Forum, State Commission or National Commission by opposite party or any other person, District Consumer Forum, State Commission or National Commission has right to issue summon or warrant against such person through police officer and also to pass an order for attachment of property of such person.

--- PRAMOD KUMAR AGRAWAL

Wednesday, November 7, 2012

प्रमोद कुमार अग्रवाल को ज्योतिष दिग्विजयी का सम्मान

झारखण्ड सरकार से मान्यता प्राप्त देश की प्रमुख संस्था इण्डियन एस्ट्रोलोजिकल रिसर्च इंस्टिट्यूट, जसीडिह, देवघर  के अध्यक्ष एवं निदेशक राज ज्योतिष डॉक्टर महर्षि जे. जाह्नवी तथा चेयरमेन बिजय कुमार पाण्डेय द्वारा आगरा के ज्योतिषविद प्रमोद कुमार अग्रवाल  को ज्योतिष ज्ञान एवं ज्योतिष विधा में उत्कृष्ट लेखन के माध्यम से मानव सेवा हेतु ज्योतिष दिग्विजयी का राष्ट्रीय सम्मान प्रदान करते हुए आल इंडिया एस्ट्रोलोजर्स एसोसिएशन की आजीवन सदस्यता दी गयी है। विधि, लेखन एवं पत्रकारिता से विगत ढाई दशक से जुड़े प्रमोद कुमार अग्रवाल ने भारतीय वैदिक ज्योतिष संस्थानम से ज्योतिष विद्या विशारद का प्रशिक्षण प्राप्त किया है तथा वे फलित ज्योतिष, वास्तु एवं हस्त रेखा शास्त्र में परामर्श और लेखन कर रहे हैं।

Saturday, October 27, 2012

व्रत के नियम और कर्म

अपने इष्ट देवी-देवताओं की पूजा अर्चना के साथ-साथ व्रत रखने को भी धर्म पालन माना गया है। क्षमा, सत्य, दया, दान, संतोष, शौच, इन्द्रिय निग्रह, देव पूजा, हवन और चोरी न करना -व्रत के दस आवश्यक नियम माने गए हैं। पूर्ण विधि-विधान से व्रत रखने वालों को चाहिए कि वे सच्चे मन, वचन और कर्म से निराहार रहकर अपने इष्ट भगवान् की आराधना करें तथा अपने सम्पूर्ण शरीर के शोधन, प्रभु मिलन की आस और ईश्वर की कृपा प्राप्त करने के लिए क्रोध, लोभ एवं मोह से अपने को सदैव दूर रखें। नियम और कर्म से व्रत रखना अपने आप में असाध्य माना जाता है, लेकिन यह भी सत्य है कि  व्रत रखने से  तन और मन दोनों ही शुद्ध होते हैं तथा ईश्वर  की कृपा और आशीर्वाद भी प्राप्त होने लगते हैं। व्रत का संकल्प लेने वालों को सूर्योदय से सूर्यास्त तक निराहार रहना होता है। व्रत रखने वाले दिन पवित्र भाव से स्नान आदि  से शुद्ध होने के उपरान्त पूर्ण श्रद्धा भाव से अपने इष्ट देव की आराधना करनी चाहिये।  व्रत के मध्य में बार-बार फल, चाय, दूध आदि के सेवन से व्रत खंडित माना जाता है, लेकिन स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए वे बीच में एक बार चाय या फलों का सेवन कर सकते हैं। व्रत रखने वालों के लिए मौसम के अनुसार फल, केला,साबूदाना, आलू, सिंघाड़े व कूटू के आटे  से बने खाद्य पदार्थ  उपयुक्त माने गए हैं। व्रत रहने के दौरान तम्बाकू, गुटखा, पान, शराब तथा अन्य नशीले पदार्थों का सेवन, स्त्री संसर्ग, दिन में शयन  कदापि नहीं करना चाहिए अन्यथा व्रत भंग माना जाता है। व्रत के दौरान अपने आप को विषय-वासनाओं से मुक्त ही रखना चाहिए। व्रत के दौरान यदि व्रत रखने वाला व्यक्ति बेहोश हो जाये तो उसे पानी या फलों का ताज़ा रस सेवन कराने से व्रत खंडित नहीं माना जाता है। महिलाओं को रजोदर्शन  होने पर व्रत नहीं रखना चाहिये। परन्तु व्रत काल में यदि रजोदर्शन हो जाये तो व्रत खंडित नहीं माना जाता है। इस स्थिति में महिलाओं को पूजा आदि  नहीं करनी चाहिए तथा किसी अन्य व्यक्ति से व्रत का भोजन बनवाकर व्रत का  परायण करना चाहिए। बीमारी की दशा में भी व्रत रखने से बचना चाहिये बल्कि उस स्थिति में पूर्ण श्रद्धा भाव से ईश्वर की आराधना करनी चाहिए। ऐसा करने से व्रत से मिलने वाले लाभ प्राप्त हो जाते हैं।-- प्रमोद
कुमार अग्रवाल      

Wednesday, October 24, 2012

जड़ी धारण करने से होता है कष्टों का निवारण

मनुष्य को जीवन में जब कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है तब वह ज्योतिष, तन्त्र -मन्त्र, रत्न और जड़ी बूटियों  का सहारा लेता है। ज्योतिष शास्त्र में ऐसी  बहुत सारी जड़ी  का उल्लेख मिलता है जिनके धारण करने से जन्म कुंडली में स्थित ग्रहों के अशुभ प्रभाव को दूर किया जा सकता है। आर्थिक कारणों से जब कोई व्यक्ति महंगे नाग धारण नहीं कर पाता  है तो  जड़ी  धारण की जा सकती है। शुभ मुहूर्त में विधि पूर्वक प्राप्त की गयी जड़ी भी ग्रहों की निर्बलता या अशुभ प्रभाव को दूर करने में प्रभावी होती है। सूर्य ग्रह  के लिए बेलपत्र की जड़, चन्द्र ग्रह  के लिए खिरनी या खजूर की जड़, मंगल ग्रह  के लिए अनंतमूल या नाग जिह्वा की जड़, बुध ग्रह के लिए विधारा की जड़, ब्रहस्पति ग्रह के लिए भृंगराज की जड़, शुक्र ग्रह  के लिए अश्वगंधा की जड़, शनि ग्रह  के लिए लाल चन्दन या सिंह पुच्छ की जड़, राहु  ग्रह  के लिए लाल व सफ़ेद चन्दन और केतु ग्रा  के लिए अश्वगंधा की जड़ को उपयोग में लाया जाता है। जड़ी का प्रयोग करते समय यह अवश्य ध्यान रखना चाहिए कि  जिस जड़ी  का प्रयोग किया जा रहा हो उससे सम्बंधित ग्रह, वार एवं नक्षत्र में उस रंग के धागे अथवा कपडे  में जडी को बाँध लिया  जाये। विधि पूर्वक और शुद्ध मन एवं विश्वास  के साथ जड़ी  का प्रयोग करने से मनुष्य के जीवन में प्रसन्नता, सफलता,  सुख और शांति आने लगती है तथा  बाधा एवं कष्टों का निवारण होने लगता है।-- प्रमोद कुमार अग्रवाल

Monday, October 22, 2012

बजरंग बाण के पाठ से होता है कष्टों का निवारण

मनुष्य के जीवन में सुख और दुःख साथ-साथ चलते हैं। दुःख के समय में मनुष्य सर्व शक्तिमान ईश्वर से प्रार्थना करते हुए सुख, शांति और समृद्धि की कामना करता है। जीवन में दुर्भाग्य, भूत-प्रेत की बाधा, असाध्य रोग, शारीरिक और मानसिक कष्ट, कारोबार में रूकावट जैसी समस्याएँ आने पर प्रभु श्री राम के परम भक्त मंगल मूर्ति मारुति नंदन श्री हनुमान जी का  पूर्ण श्रद्धा भाव से पूजन तथा बजरंगबाण का पाठ करना शुभ फलदायी माना गया है। इसके लिए अपनी सुविधानुसार मंगलवार अथवा शनिवार के दिन स्नान आदि से निवृत्त होने के उपरान्त पूजन स्थल पर हनुमान जी का चित्र या मूर्ति  की स्थापना करके वहां लाल रंग का आसन लगायें। अगर घर में स्थान की कमी हो अथवा घर का वातावरण अशांत हो तो किसी भी एकांत स्थल या हनुमान जी के मंदिर में यह अनुष्ठान किया जा सकता है। हनुमान जी की उपासना एवं पाठ  से पूर्व गेंहू, चावल, मूंग, उड़द और काले तिल  के मिश्रित आटे  का दीपक बनाकर शुद्ध तिली के तेल तथा लाल रंग में रंगे सूत की पंचमुखी बत्ती से दीपक प्रज्वलित करना चाहिए। शुद्ध गूगल, धूप, लाल रंग के पुष्प, लाल चन्दन या लाल रोली आदि से हनुमान जी की ध्यान मग्न होकर उपासना करते हुए बजरंग बाण का पाठ करना चाहिए। यहाँ यह ध्यान देना आवश्यक है कि  एक ही बैठक में बजरंग बाण के एक सौ आठ पाठ पूरे किये जाएँ और इस दौरान दीपक लगातार प्रज्वलित होता रहे। पाठ पूर्ण होने पर हनुमान जी की आरती करके प्रसाद लगाया जाए और प्रसाद का वितरण भी किया जाए। सच्चे मन, शुद्ध चित्त व पवित्र भावना के साथ हनुमान जी की उपासना और बजरंग बाण का पाठ करने से हनुमान जी की कृपा प्राप्त होती है और जीवन में आने वाले कष्ट तथा बाधाओं का निवारण होने लगता है। -- प्रमोद कुमार अग्रवाल   

Saturday, October 20, 2012

शनि को प्रसन्न करने के उपाय

सौर मंडल में भ्रमण करने वाले नौ ग्रहों में शनि एक ऐसा ग्रह  है  जिसे  दुःख देने वाला माना जाता है। शनि ग्रह  के मारकेश या अष्टमेश में होने, शनि की साढ़े साती अथवा शनि की ढईया होने पर जातक के जीवन में अशुभ प्रभाव देखने को मिलते हैं। शनि ग्रह  मकर और कुम्भ राशियों के स्वामी हैं। तुला राशि में शनि उच्च के तथा मेष राशि में शनि नीच के होते हैं। सूर्य, चन्द्र और मंगल शनि के शत्रु हैं।
शनि के कुपित होने से जीवन में धन की कमी, कष्ट, शारीरिक बीमारियाँ, कैंसर, दांत व दाढ़  में दर्द, लकवा, कलह, अकारण विवाद, पदावनति, दुर्बलता, चिंता जैसी समस्याओं का सामना करना पड  सकता है। शनि के प्रसन्न होने पर जातक न्याय-प्रिय, सुखी, संपन्न और अतुलनीय धन-सम्पदा  का स्वामी हो जाता है।
शनि के अशुभ प्रभाव को दूर करने के लिए पक्षिओं को दाना चुगाना, अपनी परछाई देख कर शनिवार के दिन सरसों के तेल का दान करना, अमोघ शिव कवच और महा मृत्युंजय मन्त्र का जाप करना, शनि स्त्रोत का पाठ करना, प्रत्येक शनिवार को उपवास करके श्री हनुमानजी की भक्ति भाव से आराधना करना उपयुक्त माना गया है। इसके अलावा लाल चन्दन की अभिमंत्रित माला अथवा श्रवण नक्षत्र में शनिवार के दिन काले रंग के धागे में शमी की अभिमंत्रित जड़ या बिच्छू घास की जड़ धारण करने, शनि से सम्बंधित वस्तुएं जैसे तेल, लोहा, काले तिल, कुल्थी या काली मसूर की दाल, काले जूते, कस्तूरी, नीलम रत्न आदि का दान करने से भी शनि के अशुभ प्रभाव से बचा जा सकता है।
शनि से सम्बंधित लघु मन्त्र 'ॐ प्रां प्रीम प्रों सः शनये नमः'  का निरंतर जाप करते रहने से भी शनि प्रसन्न होते हैं और जातक के दुःख एवं कष्टों का निवारण होने लगता है। -- प्रमोद कुमार अग्रवाल

Friday, October 19, 2012

मंत्र शक्ति का चमत्कार

दुःख व चिंताओं को दूर करके शांति और आनंद का अनुभव करने, तन व मन को स्वस्थ बनाये रखने, बुद्धि एवं कार्य करने की शक्ति में वृद्धि करने तथा वृद्धावस्था को दूर रखने के लिए एक चमत्कारी मंत्र है :

                                " ॐ श्री प्रकाशम् " .
दिल्ली के योगाचार्य श्री कृष्ण गोयल द्वारा हमें यह मंत्र भेजा गया है. श्री गोयल के अनुसार इस मंत्र का मन ही मन जाप करने के लिए एकांत जगह को चुनें और अपनी आँखों को धीमे से मूँद कर अपने ध्यान को मंत्र की शांत तरंगों पर केन्द्रित करें. जाप करते समय अपने होंठ व जीभ को न हिलाएं. पांच मिनट जाप करने के बाद आराम से बैठ कर महसूस करें कि आपका शरीर शांति की मूर्ति बन गया है , शरीर में अपार ऊर्जा व शक्ति का संचार हो गया है तथा सम्पूर्ण शरीर में एक अनोखा प्रकाश भर गया है. इस मंत्र के निरंतर जाप एवं अभ्यास से हमें आन्तरिक प्रकाश का दर्शन होने लगेगा और तब धीरे - धीरे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में आशातीत लाभ होगा.-- प्रमोद कुमार अग्रवाल

आदित्य स्तोत्र के पाठ से मिलते हैं चमत्कारिक फल

जीवन में अचानक बाधाएं, कष्ट, रोग, शत्रु बाधा, असफलता, पारिवारिक तनाव जेसी समस्याएं आने लगती हैं तो मनुष्य अपनी जन्म कुंडली में छिपे रस्यों के अनुसार ग्रह-नक्षत्रों की शांति के उपाय करता है। एसा करने से सकारात्मक परिणाम भी मिलने लगते हैं। सूर्य ग्रह के दोष की वजह से ह्रदय रोग होने की आशंका सबसे ज्यादा रहती है। इससे बचने के लिए स्वर्ण धातु की अंगूठी पहनने की सलाह दी जाती है।
आदित्य ह्रदय स्तोत्र का पाठ श्रद्धापूर्वक नियमित रूप से करते रहने से भी ह्रदय रोग में आशातीत लाभ मिलता है। आदित्य ह्रदय स्तोत्र के पाठ से मिर्गी, ब्लडप्रेशर मानसिक रोग आदि भी ठीक होने लगते हैं। आदित्य ह्रदय स्तोत्र के पाठ से नौकरी में पदोन्नति, धन प्राप्ति, प्रसन्नता, आत्मविश्वास में वृद्धि होने के साथ-साथ समस्त कार्यों में सफलता व सिद्धि मिलने लगती है।
आदित्य ह्रदय स्तोत्र का पाठ आरम्भ करने के लिए शुक्ल पक्ष के प्रथम रविवार का दिन शुभ माना गया है। इसके बाद आने वाले प्रत्येक रविवार को यह पाठ करते रहना चाहिए। इस दिन सूर्य देवता की धूप, दीप, लाल चन्दन, लाल कनेर के पुष्प, घृत आदि से पूजन करके उपवास रखना चाहिए। सांयकाल आटे से बने मीठे हलवे का प्रसाद लगाकर उसे ग्रहण करना चाहिए।
सूर्य देव के प्रति पूर्ण श्रद्धाभाव एवं विश्वास के साथ नियम पूर्वक उनकी उपासना व आराधना करते रहने से चमत्कारिक फल मिलने लगते हैं।-- प्रमोद कुमार अग्रवाल

वेदों का नेत्र है ज्योतिष शास्त्र

ज्योतिष शास्त्र को वेदों का नेत्र माना गया है। ज्योतिष शास्त्र के सिद्धांतों के आधार पर जन्म कुंडली के विभिन्न भावों में बैठे ग्रहों के अनुसार जातक के जीवन के सम्बन्ध में जानकारी की जा सकती है। ज्योतिष शास्त्र भविष्य का निर्धारण नहीं करता बल्कि जन्म कुंडली में जो रहस्य छिपे हैं सिर्फ उन्हें स्पष्ट करता है। यदि जातक की कुंडली में ग्रहों की स्थिति दोषपूर्ण है तो ज्योतिष शास्त्र के सिद्धांतों के अनुसार उन दोषों के निवारण के लिए कुछ उपाय करके जीवन को सुखी, संपन्न और कष्ट रहित बनाया जा सकता है। लेकिन इतना अवश्य याद रखना चाहिए कि जीवन में जो भी कुछ घटता है अथवा घटित होने वाला है वह तो होगा ही क्योकि ईश्वर ने जो भी मनुष्य के भाग्य में लिखा है उसे न तो जाना ही जा सकता है और न ही उस पर अंकुश लगाया जा सकता है, हाँ इतना अवश्य है कि ज्योतिष ज्ञान के माध्यम से मनुष्य के जीवन की व्यक्तिगत, पारिवारिक, व्यावसायिक, शेक्षिक आदि क्षेत्र की समस्याओं की पूर्व जानकारी हो जाने से वे अपने को उस समस्या या कष्ट का सामना करने के लिए मानसिक रूप से तैयार कर सकते हैं और बताये गए उपायों के द्वारा उनके प्रभाव को कम कर सकते हैं.
-- प्रमोद कुमार अग्रवाल

पंचक विचार और ज्योतिष

ज्योतिष शास्त्र में पांच नक्षत्रों के समूह को पंचक कहते हैं। ये नक्षत्र हैं धनिष्ठा, शतभिषा, पूर्वा भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद और रेवती।ज्योतिष विज्ञान के अनुसार चंद्रमा अपनी माध्यम गति से 27 दिनों में सभी नक्षत्रों का भोग कर लेता है। इसलिए प्रत्येक माह में लगभग 27 दिनों के अंतराल पर पंचक नक्षत्र आते रहते हैं।
पंचक नक्षत्रों के समूह में धनिष्ठा तथा सदभिषा नक्षत्र चर संज्ञक कहलाते हैं। इसी प्रकार पूर्व भाद्रपद को उग्र संज्ञक, उत्तरा भाद्रपद को को ध्रुव संज्ञक और रेवती नक्षत्र को मृदु संज्ञक माना जाता है। ज्योतिषविदों के अनुसार चर नक्षत्र में घूमना-फिरना, मनोरंजन, वस्त्र और आभूषणों की खरीद-फरोक्त करना अशुभ नहीं माना गया है। इसी तरह ध्रुव संज्ञक नक्षत्र में मकान का शिलान्यास, योगाभ्यास और लम्बी अवधि की योजनाओं का क्रियान्वन भी किया जा सकता है।
मृदु संज्ञक नक्षत्र में भी गीत, संगीत, फिल्म निर्माण, फेशन शो, अभिनय करने जैसे कार्य किये जा सकते हैं। उग्र संज्ञक नक्षत्र में अदालत में लंबित मुकदमों तथा विभिन्न प्रकार के वाद-विवादों का निपटारा किया जा सकता है।
पंचक काल में विवाह, मुंडन, उपनयन संस्कार, गृह प्रवेश, गृह निर्माण और व्यावसायिक कार्य किये जा सकते हैं। पंचक काल में यदि कोई कार्य किया जाना अति आवश्यक हो तो इसके लिए पंचक दोष की शांति के निवारण का उपाय अवश्य कर लेना चाहिए।
ज्योतिष शास्त्र की मान्यता के अनुसार पंचक के दिनों में किसी व्यक्ति की मृत्यु होने पर दाह - संस्कार की क्रिया से पूर्व मृतक के शव पर पांच पुतले बना कर रखे जाने का विधान है।
पंचक के दिनों में लकड़ी के फर्नीचर बनाना और खरीदना व बेचना, दक्षिण दिशा में यात्रा करना, चारपाई बनाना जैसे कार्यों पर प्रतिबन्ध बताया गया है, लेकिन यदि ऐसा करना आवश्यक हो तो नक्षत्र की स्थिति के अनुसार पंचक दोष के निवारण का उपाय अवश्य कर लेना शुभ रहता है।-- प्रमोद कुमार अग्रवाल

जन्म कुंडली और पितृ दोष

जन्म कुण्डली में सूर्य के पीड़ित होने को पितृ दोष कहा जाता है। पितृ दोष के कारण जातक को धन हानि, संतान कष्ट, संतान जन्म में बाधाएं जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

कुण्डली का दशम भाव पिता से सम्बन्ध रखता है। दशम भाव का स्वामी यदि कुण्डली के छटे, आठवें अथवा बारहवें भाव में बैठा हो तथा गुरु पाप ग्रह से प्रभावित हो अथवा पापी ग्रह की राशि में हो और लग्न व पांचवे भाव के स्वामी पाप ग्रह से सम्बन्ध बनाते हों तो भी पितृ दोष माना जाता है।
पंचम भाव का स्वामी यदि सूर्य हो और वह पाप ग्रह की श्रेणी में हो तथा त्रिकोण में पाप ग्रह हो अथवा उस पर पाप ग्रह की दृष्टि हो तो इसे पितृ दोष प्रभावित कहा जाता है।
कमजोर लग्न का स्वामी यदि पांचवें भाव में हो और पांचवें भाव का स्वामी सूर्य से सम्बन्ध बनाता है तथा पंचम भाव में पाप ग्रह में हो तो भी पितृ दोष कहलाता है।
अष्टम भाव में सूर्य, पंचम भाव में शनि, लग्न में पाप ग्रह और पंचम भाव के स्वामी के साथ राहु स्थित हो तो पितृ दोष के कारण संतान सुख में कमी आती है।
कुंडली में सूर्य-शनि, सूर्य-राहू का योग केंद्र त्रिकोण 1, 4, 5, 7, 9, और 10 भाव में हो अथवा लग्न का स्वामी 6, 8, या 12 भाव में हो एवं राहु लग्न भाव में हो तो इसी कुण्डली भी पितृ दोष युक्त होती है।
कुण्डली में स्थित पितृ दोष को दूर करने के लिए जातक को प्रत्येक अमावस्या को पितरों की पूजा करनी चाहिए। अपने बड़े-बुजुर्गों, गरीब और जरूरतमंदों की सेवा व सहायता करने से भी पितृ दोष का निवारण होता है। -- प्रमोद कुमार अग्रवाल, ज्योतिषविद

व्यापार को बुरी नज़र से बचाता है नज़र बट्टू

 दुकानदारी, व्यवसाय और प्रतिष्ठान को किसी की बुरी नज़र से बचाने के लिए दुकानदार एवं व्यापारी कई उपाय करते हैं। शनिवार के दिन नीबू और मिर्च से बनी माला का प्रयोग भी बहुतायत में किया जाता है। इसे नज़र बट्टू कहा जाता है।
इसे बनाने के लिए मोटे व काले रंग के धागे में एक ताज़ा नीबू और पाँच या सात की संख्या में ताज़ा मिर्चों को पिरोकर दुकान, व्यवसाय स्थल और कार्यालयों के मुख्य या प्रवेश द्वार पर लटका दिया जाता है। इस प्रकार बनाया गया नज़र बट्टू एक हफ्ते तक लगा रहता है और दोबारा शनिवार के दिन ही बदला जाता है।
ऐसा माना जाता है कि इस प्रयोग से व्यापार या दुकानदारी को किसी की बुरी नज़र अथवा हाय नहीं लगती है तथा उस स्थान पर नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह भी नहीं होता है। -- प्रमोद कुमार अग्रवाल

दीपक जलाना होता है शुभ

अपने इष्ट देवी-देवताओं की पूजा अर्चना और आरती के समय दीपक, धूपबत्ती, अगरबत्ती आदि जलाने की परंपरा है। वास्तु शास्त्र के अनुसार ऐसा करने से उस स्थान की नकारात्मक ऊर्जा और वास्तु दोष में कमी आने लगती है, सकारात्मक ऊर्जा प्रवाहित होने के साथ-साथ वातावरण पवित्र एवं शुद्ध बना रहता है।
पूजा गृह में दीपक प्रज्वलित करने के लिए हमेशा नई और पवित्र रुई से बने कँवल या बत्ती तथा शुद्ध घी, सरसों या तिली के तेल को ही उपयोग में लाना चाहिए। पुरानी और पहले से ही किसी अन्य कार्य में प्रयुक्त रुई और अशुद्ध व झूठे घी व तेल का उपयोग पूजा तथा आरती के लिए नहीं करना चाहिए। ऐसा करना शास्त्रों के अनुसार निषिद्ध माना गया है।
दीपक को कभी भी ज़मीन पर नहीं रखना चाहिए बल्कि उसे रोली या चावल का सतिया बना कर उस पर प्रज्वलित करना चाहिए। दीपक प्रज्वलित करते समय समस्त जीव-जंतुओं एवं पादपों के कल्याण और सुख-समृद्धि की सच्चे हृदय से कामना अवश्य करनी चाहिए। ऐसा करने से सर्व शक्तिमान ईश्वर का आशीर्वाद मिलता है।
पूजा गृह, घर, प्रतिष्ठान अथवा किसी संस्थान में दीपक प्रज्वलित करके ईश्वर का ध्यान करते समय निम्न मन्त्र का जाप करना शुभ एवं कल्याणकारी होता है:
शुभम करोतु कल्याणंमारोग्यं सुख सम्पदम .
शत्रु बुद्धि विनाशायं च दीप ज्योतिर्नमोस्तुते।
-- प्रमोद कुमार अग्रवाल

वास्तु शास्त्र और दिशा ज्ञान

वास्तु शास्त्र के अनुसार किसी भी भवन अथवा स्थान की दृष्टि से एक मध्य स्थान और आठ दिशाएं होती हैं। इन सभी दिशाओं का अपना अलग-अलग महत्त्व है।
जिस दिशा से सूर्य देवता उदय होते हैं वह पूर्व दिशा होती है। इस दिशा के स्वामी इंद्र भगवान हैं। पूर्व दिशा अग्नि तत्व है जिसे कभी भी बंद नहीं करना चाहिए। इस दिशा को बंद करने से वहां रहने वालों को कष्ट, अपमान, ऋण, कार्यों में रुकावट और पितृ दोष का सामना करना पड़ता है।

सूर्य देवता के अस्त होने की दिशा पश्चिम है। इस दिशा के स्वामी वरुण देवता और तत्व वायु हैं। इस दिशा को बंद करने से जीवन में असफलता, शिक्षा में रूकावट, मानसिक तनाव, धन की कमी, मेहनत के बावजूद लाभ न मिलने जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।
उत्तर दिशा जल तत्व से सम्बन्ध रखती है। इस दिशा के स्वामी कुबेर हैं। इस दिशा में कोई भारी सामान नहीं रखना चाहिए और न ही इसे बंद करना चाहिए। धन रखने वाली तिजोरी का मुख सदैव उत्तर दिशा में ही खुलना शुभ माना गया है। इस दिशा को पवित्र और खुला रखने से धन, धान्य, सुख, समृद्धि और विद्या की प्राप्ति होती है।
पृथ्वी तत्व से सम्बंधित दक्षिण दिशा के स्वामी यम हैं। इस दिशा को सदैव बंद रखना ही शुभ माना जाता है। यदि इस दिशा में खिड़की हों तो उन्हें बंद रखना ही श्रेष्ठकर है। इस दिशा में कभी भी पैर करके नहीं सोना चाहिए।
वास्तु शास्त्र के अनुसार उत्तर - पूर्व दिशा को ईशान कोण माना गया है। जल तत्व से सम्बन्ध रखने वाली इस दिशा के स्वामी रूद्र हैं। इस दिशा को भी सदैव पवित्र रखना चाहिए अन्यथा घर परिवार में कलह और कष्ट होने के साथ-साथ कन्या संतान अधिक होने की सम्भावना भी बनी रहती है।
दक्षिण - पूर्व दिशा को वास्तु शास्त्र में आग्नेय कोण माना गया है। अग्नि तत्व से सम्बंधित इस दिशा के स्वामी अग्नि देवता हैं। यदि इस दिशा को दूषित रखा जाए तो घर में बीमारियाँ और अग्निकांड होने का खतरा बना रहता है। इस दिशा में बिजली के मीटर, विद्युत् उपकरण और गैस चूल्हा आदि रहने चाहिए।
दक्षिण-पश्चिम दिशा को वास्तु शास्त्र में नैरित्य कोण कहा जाता है। इस दिशा का सम्बन्ध पृथ्वी तत्व से है और इस दिशा के स्वामी नैरूत हैं। इस दिशा के दूषित होने से चरित्र हनन, शत्रु भय, भूत-प्रेत बाधा, दुर्घटना जैसी समस्याओं का सामना करना पड सकता है।
वास्तु शास्त्र में उत्तर-पश्चिम दिशा को वायव्य कोण का नाम दिया गया है। वायु तत्व वाली इस दिशा के स्वामी भी वरुण देवता हैं। इस दिशा के पवित्र रहने से घर में रहने वालों का स्वास्थ्य अच्छा रहता है और उनकी आयु भी अच्छी रहती है।
वास्तु शास्त्र में भवन का मध्य भाग सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि यह भाग ब्रम्हा का होने से इसे सदैव खुला और खाली रखने की सलाह दी जाती है। आकाश तत्व वाले इस पवित्र स्थान के स्वामी सृष्टि के रचियता ब्रह्मा जी हैं।-- प्रमोद कुमार अग्रवाल



जन्म राशि के अनुसार करें आराधना

प्रत्येक मनुष्य मनोकामनाओं को पूरा करने के लिए अपने इष्ट देवी-देवता की पूजा अर्चना करता है। अपनी जन्म राशि के अनुसार यदि अपने इष्ट देवी-देवता की पूर्ण श्रद्धा और विश्वास से आराधना की जाये तो जीवन में अच्छे परिणाम देखने को मिल सकते हैं। यहाँ हम समस्त बारह जन्म राशियों के अनुसार इष्ट देवी-देवता की आराधना करने के सम्बन्ध में चर्चा कर रहे हैं।
मेष और वृश्चिक राशि :
इन दोनों राशियों के स्वामी ग्रह मंगल हैं। इन राशि के जातकों को पवनसुत हनुमानजी, महा काली और तारा देवी की आराधना करने के साथ-साथ दुर्गा सप्तशती में दिए गए देवीजी के प्रथम चरित्र का पाठ करना शुभ फलदायी होता है।
वृष और तुला राशि :
इन दोनों राशियों के स्वामी ग्रह शुक्र हैं, जो रजो गुण प्रधान हैं। इन जातकों को ज्ञान की देवी सरस्वती जी की आराधना करना शुभ होता है।
मिथुन और कन्या राशि :
इन राशियों के स्वामी ग्रह बुध हें। बुध भी रजो प्रधान ग्रह हैं। इन जातकों को माता दुर्गा और भुवनेश्वरी देवी जी की आराधना करना शुभ फलदायी माना गया है।

कर्क राशि :
इस राशि के स्वामी सतो गुण प्रधान चन्द्र ग्रह हैं। इस राशि के जातकों को धन की देवी महालक्ष्मी जी की आराधना करनी चाहिए।

सिंह राशि :
इस राशि के स्वामी सतोगुण प्रधान ग्रह सूर्य है। इस राशि के जातकों को सूर्य भगवान्, धन की देवी महालक्ष्मी , बगला मुखी एवं सिद्धिदात्री देवी की आराधना करनी चाहिए।
धनु और मीन राशि :
इन दोनों राशियों के स्वामी ग्रह गुरु अर्थात ब्रहस्पति हैं। ये सतो गुण प्रधान हैं। इन दोनों राशियों के जातकों के लिए महालक्ष्मी, कमला और सिद्धिदात्री देवी की आराधना करना फलदायी होता है।
मकर और कुम्भ राशि :
इन दोनों राशिओं के स्वामी ग्रह शनि हैं जो तमो प्रधान गुण रखते हैं। इन जातकों को शनि देव और महाकाली जी की उपासना करनी चाहिए। -- प्रमोद कुमार अग्रवाल, ज्योतिषविद












वक्री हुए बृहस्पति ग्रह, शिक्षा और अर्थव्यवस्था में प्रगति होगी

शिक्षा, धर्म और अध्यात्म के करक ग्रह बृहस्पति ने 4 अक्टूबर की शाम 6:50 से वृष राशि में विपरीत दिशा में चलना आरम्भ कर दिया है अर्थात बृहस्पति ग्रह वक्री हो गए हैं। देवगुरु बृहस्पति अगले वर्ष 30 जनवरी, 2013 को वक्री से मार्गी होंगे। समस्त ग्रहों में सौम्य माने जाने वाले बृहस्पति ग्रह का वर्तमान वक्री प्रभाव शुभ फल दायक है। शास्त्रों के अनुसार सौम्य ग्रह वक्री होने पर भी महा शुभ फलदायी होते हैं।

बृहस्पति ग्रह के वक्री प्रभाव से लोगों में धार्मिक भावना में वृद्धि होगी, शिक्षा, विशेष रूप से तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में प्रगति होगी, और शिक्षा से सम्बंधित विभागों में बेरोजगारों को नौकरी के पर्याप्त अवसर उपलब्ध होंगे। बृहस्पति के शुभ प्रभाव से पीतल और स्वर्ण धातु के व्यवसाय में व्यापारियों को लाभ की संभावनाए बनेंगी।
बृहस्पति ग्रह अर्थव्यवस्था पर भी अपना अधिकार रखते हैं, अतः देश की अर्थव्यवस्था में भी सुधार होना संभावित है।
वक्री बृहस्पति के प्रभाव से मेष, वृष, सिंह, कन्या, वृश्चिक और मकर राशियों के जातकों को लाभ होगा, जबकि मिथुन, तुला और कुम्भ राशि के जातकों को अशुभ फल मिलेंगें। कर्क, धनु और मीन राशि के जातकों के लिए वक्री बृहस्पति सामान्य फलदायी होंगे। --प्रमोद कुमार अग्रवाल, ज्योतिष विद्या विशारद (वाराणसी)

वृश्चिक राशि में मंगल के प्रवेश से मिलेंगे मिश्रित फल

सौर मंडल में भूमि पुत्र के नाम से प्रसिद्ध मंगल ग्रह 9 नवम्बर तक के लिए अपनी स्व राशि वृश्चिक में रहेंगे। मंगल ग्रह के अपनी राशि में आने से ज़मीन-जायदाद के व्यवसाय, भवन निर्माण, धातुओं के व्यापार और शेयर बाज़ार का कारोबार करने वालों को विशेष लाभ पहुँचेगा।

मंगल ग्रह के स्व राशि में आने के इस महत्वपूर्ण योग के प्रभाव से धन-धान्य के उत्पादन, गुड, चीनी, वनस्पति एवं शुद्ध घी, तेल तथा अन्य तरल पदार्थों के व्यापारियों को आर्थिक लाभ मिलेगा। इसके अलावा इस योग से जनता के जीवन में क्रय शक्ति में वृद्धि होगी।
मंगल ग्रह के वृश्चिक राशि में प्रवेश का असर विभिन्न राशियों पर अलग-अलग देखा जा सकता है। वृष, कर्क, तुला, वृश्चिक, कुम्भ और मीन राशि के जातकों को लाभ होगा, वहीँ मेष, सिंह और धनु राशि के जातकों के लिए यह योग अशुभ फल देगा। मिथुन, कन्या एवं मकर राशि के जातकों के लिए इस योग का प्रभाव सामान्य फल देने वाला होगा।
चूँकि वृश्चिक राशि में पहले से ही राहू ग्रह विराजमान है, ऐसी दशा में वृश्चिक राशि में मंगल ग्रह के साथ राहू की युति के प्रभाव से वर्ग-संघर्ष, जन आन्दोलन, धरना, प्रदर्शन, घिराव और प्राकृतिक आपदाएं घटित होने संभावनाएं हो सकती हैं।ज्योतिष शास्त्र में इस योग को अंगारक योग के नाम से जाना जाता है। - प्रमोद कुमार अग्रवाल, ज्योतिषविद

वास्तु अनुरूप लगायें पौधे

वास्तु शास्त्र के नियमों के अनुसार यदि घर के अन्दर और आसपास पेड़-पोधे लगाये जाएँ तो उसके शुभ परिणाम मिलते हैं। घर की पूर्व दिशा में पीपल, दक्षिण दिशा में पलाश, पश्चिम दिशा में वट और उत्तर दिशा में उदुम्बर के पेड़ कभी नहीं लगाने चाहिए अन्यथा गृह स्वामी को सदैव समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। पश्चिम दिशा में लगाया गया पीपल का पेड़ धन-धान्य की प्राप्ति कराता है।
वास्तु शास्त्र के अनुसार नैरित्य और आग्नेय कोण में उद्यान और बगीचा नहीं लगाना चाहिए। घर के अन्दर बने बगीचे में नीलिमा एवं हरिद्रा लिए हुए पौधे लगाने से धन और संतान की हानि होने की आशंका बनी रहती है। इसी प्रकार घर के पास फलदार, कांटेदार और दूधदार पौधे भी नहीं लगाने चाहिए।
घर के अन्दर बेर, केला, अनार, अरण्डी तथा कांटेदार पेड़ लगाने से उस घर की संतानों का विकास बाधित होने के साथ-साथ गृह स्वामी को शत्रुभय बना रहता है तथा आर्थिक तंगी भी बनी रहती है। जिस पौधे में फल, दूध और कांटे तीनों ही मौजूद हों तो उसे भूलकर भी घर के अन्दर नहीं लगाना चाहिए अन्यथा घर के सदस्यों को काल का भय बना रहता है। -- प्रमोद कुमार अग्रवाल

Friday, September 21, 2012

घर बैठे ही लें ज्योतिष में पत्राचार से प्रशिक्षण

भारतीय वैदिक ज्योतिष संस्थानम (रजिस्टर्ड), वाराणसी (उत्तर प्रदेश) से अपने घर बैठे- बैठे ज्योतिष शास्त्र की विभिन्न विधाओं जैसे - फलित ज्योतिष,  हस्तरेखा, वास्तु,  रत्न  ज्योतिष,  तंत्र-मन्त्र, अंक ज्योतिष,  ज्योतिष धन्वन्तरी,  कर्मकांड आदि में पत्राचार से प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए कृपया मोबाइल नम्बर  :  09412155627 पर संपर्क कर सकते है। (न्यूज़लाइन समाचार )













ज्योतिष शास्त्र और भविष्य

ज्योतिष शास्त्र और भविष्य मनुष्य को हमेशा से ही अपने भूत, वर्तमान और भविष्य को जानने की जिज्ञासा रही है। इसके लिए वह ज्योतिष शास्त्र की विभिन्न विधाओं जैसे हस्तरेखा, जन्म कुंडली, अंक विज्ञान आदि का सहारा लेता है और इस विधा के जानकार लोगों से संपर्क करने की कोशिश करता है। वहीँ कुछ लोग ज्योतिष शास्त्र को अविश्वास की नज़र से देखते हैं और इस शास्त्र से जुड़े लोगों का उपहास उड़ाते हैं, लेकिन ऐसे लोग भी अपने घर परिवार में किसी बच्चे के जन्म , मांगलिक कार्यक्रम, लड़के अथवा लडकी के विवाह आदि से पहले कुंडली मिलवाते हैं और इस विधा के जानकार लोगों की तलाश करते हैं।
वास्तव में देखा जाये तो ज्योतिष शास्त्र सौर मंडल में स्थित ग्रह, नक्षत्रों के हमारे जीवन पर प्रभाव से जुड़ा विज्ञानं है. बच्चे के जन्म के साथ ही उस समय मौजूद ग्रह और नक्षत्र के आधार पर उसके समस्त जीवन का निर्धारण हो जाता है।
सही-सही जन्म समय , जन्म स्थान और जन्म की तिथि के आधार पर बनी हुई जन्म कुंडली किसी भी जातक के सम्पूर्ण जीवन से जुडी गूढ़ से गूढ़ बातों की जानकारी दे देती है। वहीँ दूसरी ओर हमारे हाथ की रेखाओं में भी जीवन से जुडी बहुत सी रहस्यमयी बातें छिपी होती हैं।
जन्म कुंडली और हाथ की रेखाओं के समुचित विश्लेषण से हम वर्तमान और भविष्य के बारे में जानकारी हासिल कर सकते हैं। बस ज़रुरत है इस सर्व शक्तिमान ईश्वर और शास्त्र के प्रति विश्वास बनाये रखने की। -- प्रमोद कुमार अग्रवाल

श्री गणेशजी के पूजन से होती हैं मनोकामनाएं पूरी

समस्त देवताओं में प्रथम पूज्य विघ्नहर्ता रिद्धि-सिद्धि विनायक श्री गणेशजी सुख, समृद्धि, धन, ज्ञान विद्या और शांति के प्रदाता हैं। श्री गणेशजी के बारह स्वरूपों की पूजा अर्चना की जाती है। ये स्वरुप हैं : गजानन, लम्बोदर, एकदंत, भाल चन्द्र, मंगल मूर्ति, चतुर्भुज, कृष्ण पंगाक्ष, सिन्दूर् वर्ण, वक्र् तुंड, शूपकर्ण , ओमकार और महाकाय।
वास्तु शास्त्र में श्री गणेशजी के विधि-विधान से पूजन और उनकी प्रतिमा अथवा तस्वीर अनुकूल दिशा में लगाने मात्र से भवन अथवा व्यावसायिक प्रतिष्ठान में वास्तु दोषों का शमन होता है।
श्रीगणेशजी के पूजन के लिए प्रत्येक बुधवार या हर माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी का दिन् शुभ और विशेष लाभ देने वाला माना गया है। श्री गणेशजी के पूजन के लिए दूब , मोदक, सिन्दूर, लाल कनेर, लोंग , सुपारी और अक्षत आदि का उपयोग करना चाहिए।
श्री गणेशजी के पूजन में तुलसी दल का प्रयोग नहीं किया जाता है। श्री गणेशजी का पूजन पूर्ण श्रद्धा और विश्यास के साथ करने से श्री गणेशजी अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं।
--- प्रमोद कुमार अग्रवाल, ज्योतिषविद





व्यवसाय और वास्तुशास्त्र

# वास्तु शास्त्र के अनुसार फेक्ट्री अथवा व्यावसायिक स्थल के लिए चिकनी मिटटी वाले भूखंड का चयन करना शुभ रहता है। व्यावसायिक भूखंड में न तो शल्य दोष होना चाहिए और न ही भूखंड किसी कब्रिस्तान या शमशान घाट के नजदीक होना चाहिए।

# व्यवसाय की सफ़लता के लिए भूखंड का आकार आयताकार, वर्गाकार या षष्ठ भुजाकार या अष्ट भुजाकर होना शुभ होना चाहिए।

# व्यवसाय स्थल में भारी सामान रखने का स्थान और भण्डार घर हमेशा ईशान (उत्तर-पूर्व कोण) में अथवा आग्नेय (दक्षिण-पूर्व कोण) में ही बनाना चाहिए।

# चेक बुक, पास बुक, जमा बही, मुक़दमे से सम्बंधित कागजात आदि हमेशा ईशान कोण या पूर्व दिशा में ही रखना चाहिए।

# लेखा विभाग तथा लेखा अधिकारी के बैठने का स्थान व्यवसाय स्थल के उत्तरी भाग में रखना शुभ होता है।

# टेलीफोन और फैक्स मशीन पश्चिम या उत्तर-पश्चिम दिशा में रखना शुभ रहता है। इसी प्रकार कंप्यूटर को हमेशा मेज की दायीं ओर रखना चाहिए।

# मेज पर कभी भी फ़ाइलों का ढेर नहीं लगाना चाहिए। ऐसा करने से कार्यालय में नकारात्मक ऊर्जा प्रवाहित होती रहती है।
-- प्रमोद कुमार अग्रवाल

उपयोगी वास्तु टिप्स

* सोते समय सिर पूर्व अथवा दक्षिण दिशा में ही रखकर सोना चाहिए। दक्षिण दिशा में पैर करके सोना अशुभ होता है।
* जहाँ तक संभव हो भवन का मुख्य प्रवेश द्वार एक ही रखना चाहिए। इसके साथ-साथ द्वार को मांगलिक चिन्हों से भी सजाना शुभ रहता है।
* भवन में लगाई जाने वाली समस्त खिडकियों और दरवाज़ों की ऊंचाई एक समान ही रखनी चाहिए। ऐसा न करने से भवन में नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होने से उसमे रहने वालों के लिए शुभ नहीं रहता है।
* भवन में रसोई घर का निर्माण हमेशा आग्नेय कोण ( दक्षिण -पूर्व दिशा ) में ही कराना चाहिए।
* नया भवन बनवाते समय खिड़की, दरवाजे, फर्नीचर आदि में हमेशा नयी लकड़ी का ही प्रयोग करना शुभ माना जाता है। पुरानी लकड़ी का उपयोग शुभ नहीं होता है और भवन की सुन्दरता भी प्रभावित होती है।
* भवन में सजावट करते समय लडाई-झगड़े आदि के चित्र, जंगली जीव-जंतुओं, राक्षसों, आदि की मूर्तियाँ नहीं लगानी चाहिए। इस तरह के चित्र और मूर्तियाँ अपना अशुभ प्रभाव छोडती हैं।-- प्रमोद कुमार अग्रवाल


 

Friday, August 17, 2012

प्रमोद अग्रवाल ज्योतिष विद्या विशारद से सम्मानित


आगरा ( न्यूज़लाइन )।  भारतीय वैदिक ज्योतिष संस्थानम, वाराणसी के ज्योतिष मंडल के अध्यक्ष डॉक्टर पुरुषोत्तम दास गुप्ता ने उत्तर प्रदेश राज्य के जनपद आगरा निवासी प्रमोद कुमार अग्रवाल को पाराशरीय सिद्धांत के अनुसार फलित ज्योतिष का प्रशिक्षण ए  ग्रेड और विशेष योग्यता के साथ पूर्ण करने पर ज्योतिष विद्या विशारद का अलंकरण सम्मान प्रदान किया है। विधि एवं पत्रकारिता के क्षेत्र से  करीब ढाई दशक से जुड़े प्रमोद अग्रवाल भारत सरकार  के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, नई  दिल्ली के अंतर्गत भारत के समाचार पत्रों के पंजीयक के कार्यालय से पंजीकृत   " न्यूज़लाइन फीचर्स एंड प्रेस  एजेंसी  " के संपादक और विभिन्न  राष्ट्रीय एवं स्थानीय गैर राजनीतिक संगठनों से सम्बद्ध हैं। 

Saturday, July 14, 2012

बरसात के पानी का करें संरक्षण

मानसून अब लगभग पूरे देश में आ चुका है. पिछले दिनों में देश के एक बड़े हिस्से में अच्छा-खासा पानी भी बरसा है. दिनों दिन गिरते भू गर्भ जल के स्तर को ऊँचा करने के लिए अब अच्छा समय है जब हम वाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली को अनिवार्य रूप से अपनाएं और अपने-अपने स्तर से ऐसे प्रयास करें कि बरसात के दिनों में व्यर्थ नालिओं में बह जाने वाला बरसात का पानी ज़मीं के अन्दर चला जाये,

हम चाहे शहर में रहते हों अथवा ग्रामीण क्षेत्र में निवास करते हों, चंद तरीके अपना कर बरसात के पानी का संरक्षण कर सके हैं. इसके लिए यदि हमारे घर के आस-पास कोई तालाब, पोखर. बेकार व खाली पड़ी जगह है तो हम उसमें बरसात के पानी को एकत्र होने के लिए अवश्य ही प्रयास करें.हमरे द्वारा की गयी इस कोशिश से बरसात का पानी धीरे-धीरे ज़मीन के अन्दर प्रवेश करता रहेगा.

इसके अलावा यदि हमारे घर में अथवा घर के नजदीक कोई बग़ीचा या पार्क हे तो भी हम उसके माध्यम से बरसात के पानी का संरक्षण करके आने वाले पीढी को पानी की कमी से बचा सकते हैं.

बरसात के दिनों में बरसात के पानी का भण्डारण करके उसे हम घर-बाहर के रोज़मर्रा के कामों के लिए उपयोग में ला सकते हैं. बरसात के पानी का ऊपयोग हम फ़िल्टर करने के बाद उसे पेय जल के रूप में, घर की धुलाई व सफाई, छोटे-बड़े वाहनों की धुलाई आदि कामों में किया जा सकता है. बरसात के मौसम को यदि हम इस दृष्टिकोण से देखें तो निश्चय ही इसका महत्व बहुत ही कल्याणकारी है, प्रत्येक जागरूक नागरिक को चाहिए कि वह मानव जाति एवं कल्याण हित के बरसात के पानी के संरक्षण के इस पवित्र यज्ञ में अपनी आहुति अवश्य दें। -- प्रमोद कुमार अग्रवाल




Monday, May 7, 2012

हंसो हंसाओ - स्वास्थ्य बनाओ

छह मई को हमने हास्य दिवस मनाया . यह दिवस हमारी सेहत से जुडा है क्योंकि हमेशा उन्मुक्त होकर हंसने से हमारा मानसिक और शारीरिक स्वस्थ्य बना रहता है. डॉक्टरों के अनुसार खुलकर  हंसने से हमारे सम्पूर्ण शरीर का स्वतः ही व्यायाम हो जाता है और शरीर के अंदरूनी अंगों की क्रियाशीलता भी बढ़ जाती है. हँसना और हँसाना    अपने आप में एक ऐसा व्यायाम है जिसमें कुछ भी खर्च नहीं करना होता है. यदि हम तन और मन से स्वस्थ बने रहना चाहते हैं तो हमें अपने जीवन में हंसने और हंसाने के मन्त्र को अवश्य अपनाना चाहिए.
अब हम तो यही कहेंगे -
हंसो हंसाओ - स्वास्थ्य बनाओ.-- प्रमोदकुमार अग्रवाल 

Thursday, April 26, 2012

शुद्ध भोजन,स्वस्थ जीवन.

आज के समय में हमारी जीवन शैली इतनी व्यस्त होती जा रही है कि हम समय पर न तो पौष्टिक  भोजन  कर पाते हैं और न ही समय पर अपनी दिनचर्या को व्यवस्थित  ही कर पाते हैं. जल्दबाजी में जो और जैसा भी भोजन मिलता है वही हमारे  पेट को भरने में काफी समझा जाता है. जबकि तन और मन की सेहत के लिए शुद्ध और पौष्टिक भोजन परम आवश्यक माना जाता है. बाज़ार में मिलने वाला फास्ट और जंक भोजन हमारी सेहत को बजाय लाभ के नुक्सान ही पहुंचता है. डॉक्टरों के अनुसार इस तरह का भोजन शरीर के अन्दर पहुंचकर बहुत सारे रोगों को जन्म देता है. यदि हम जीवन भर स्वस्थ्य और सुखी रहना कहते हैं तो हमें बाज़ार में मिलने वाले अशुद्ध और अस्वास्थ्यकर   खाद्य पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए. जीवन भर स्वस्थ बने रहने का आसान सा मन्त्र है : शुद्ध भोजन,स्वस्थ जीवन. --प्रमोद कुमार अग्रवाल

कर्मशील को मिलती है सफलता

जीवन में लक्ष्य को हासिल करने के लिए कर्मशील होना परम आवश्यक है. आलसी और अकर्मण्य मनुष्य जीवन में कभी भी सफल नहीं हो सकता है. भाग्य के सहारे बेठे रहने वालों को भी कुछ हासिल नहीं होता है. हमारे धर्म ग्रंथों में भी कहा गया है कि जो मनुष्य जीवन भर कर्मशील बना रहता है वही सफलता के शिखर पर पहुँचता है. धर्म ग्रंथों के अनुसार कर्म धर्म का ही रूप है और सद्कर्म मोक्ष प्राप्ति का मार्ग है. इसीलिए हमें जीवन भर कर्म करते हुए जीवन को सुखी और संपन्न बनाना चाहिए. -- प्रमोदकुमार अग्रवाल

Wednesday, April 18, 2012

शिक्षा का अधिकार

सरकार द्वारा हाल ही में शिक्षा का अधिकार कानून लागू किया गया है जिसके द्वारा अब सभी बच्चों को सरकारी के साथ - साथ निजी स्कूलों में प्रवेश देना अनिवार्य कर दिया गया है. निर्धन वर्ग के बच्चों को निजी स्कूलों में 25 प्रतिशत स्थान आरक्षित करना अनिवार्य होगा व इन स्कूलों द्वारा अपने यहाँ बच्चों को प्रवेश देने से इंकार नहीं किया जा सकेगा. इन बच्चों की शिक्षा, फीस, कॉपी ,किताबें, ड्रेस आदि का खर्चा केंद्र सरकार और राज्य सरकार मिलकर वहन करेंगी. शिक्षा का अधिकार कानून का लाभ सभी बच्चों को मिले और कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित न रहे इसके लिए हम सभी की नैतिक जिम्मेदारी है. -- प्रमोद कुमार अग्रवाल

Friday, March 2, 2012

प्यार के रंग, होली के संग.

प्यार के रंग, 
होली के संग. 
स्वार्थ के लिए, 
करें न बदरंग.
खेलें होली 
बांटें सदभाव,
भुला के 
गिले-शिकवे
करें सबसे प्यार.
न हो 
मन में कटुता, 
न हो 
भेदभाव.
बहे
प्यार की गंगा,
उड़े 
अबीर गुलाल 
मनाओ
 इस तरह
 होली 
न रहे
कोई मलाल.  
-- प्रमोदकुमार अग्रवाल



सफलता के लिए सीखें

कहते हैं सीखने की कोई उम्र नहीं होती.कभी भी और किसी भी उम्र में कुछ भी अच्छा सीखा जा सकता है. जीवन में सफलता हासिल करने के लिए हमें जीवन भर कुछ न कुछ नया सीखने के लिए प्रयासरत रहना चाहिए. हम चाहे नौकरी पेशे वाले हों या फिर कोई व्यापार करते हों, हमें जब भी समय मिले अपनी रूचि के विषय के अनुसार नया सीखने की कोशिश करते रहना चाहिए. हमारी यह आदत हमें औरों की तुलना में बेहतर बना देगी और हम अपने कार्य क्षेत्र में हमेशा आगे बने रह सकेंगे.-- प्रमोद कुमार अग्रवाल   

Wednesday, February 29, 2012

निष्क्रिय खातों की लौटेगी रकम

दस वर्ष  या इससे ज्यादा समय से बैंक खातों में कोई लेन-देन न करने पर बैंक ऐसे खातों को निष्क्रिय खातों के दायरे में रखता है.
 भारतीय रिजर्व  बैंक ने अब ऐसे निष्क्रिय खातों में जमा रकम को खाता धारकों का पता लगाकर उन्हें लौटने का निर्देश सभी बैंकों को दिया है. 
भारतीय रिजर्व  बैंक ने इन बैंकों को यह भी सलाह दी है की वे अपने यहाँ के सभी निष्क्रिय खाता धारकों की सूची अपनी वेबसाईट पर जारी करें और सक्रियता दिखाते हुए खता धारकों को उनकी रकम लौटाएं. -- प्रमोद कुमार अग्रवाल 

विद्युत् विभाग को कनेक्शन को काटने का अधिकार नहीं

यदि किसी विद्युत् उपभोक्ता द्वारा घरेलू उपयोग के लिए प्रयोग किये जा रहे कनेक्शन में से व्यावसायिक उपयोग के लिए विद्युत् का उपयोग किया जा रहा है और विद्युत् विभाग ने उपभोक्ता के इस कृत्य को विद्युत् चोरी न मानते हुए केवल विद्युत् का अनधिकृत उपयोग माना है तो उत्तर प्रदेश की विद्युत् आपूर्ति संहिता, 2005  के नियम 8 .1 के अंतर्गत विद्युत् विभाग को उस उपभोक्ता के कनेक्शन को काटने का कोई अधिकार नहीं है. संहिता के नियमों के तहत केवल विद्युत् चोरी करने पर ही कनेक्शन काटा जा सकता है.(2011 (6)एएलजे 527 ) 


विद्युत् विभाग हर्जाना देने के लिए ज़िम्मेदार

विद्युत् विभाग द्वारा लगाये गए बिजली के तारों के अचानक टूटने, उनमें स्पार्किंग होने अथवा अन्य कारणों से यदि किसी के जान और माल को नुक्सान पहुँचता है तो विद्युत् विभाग प्रभावित पक्षकार को समुचित हर्जाना देने के लिए ज़िम्मेदार है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक रिट याचिका  को निस्तारित करते  हुए कहा है कि  यदि पीड़ित पक्षकार को  हुए नुकसान के बदले  में कम हर्जाना मिलता है तो वह हर्जाने की अधिक  धनराशी  प्राप्त करने  के लिए अपने क्षेत्राधिकार वाले जिला जज  के न्यायालय में प्रार्थना- पत्र दे सकता है.(2011 (2)एएलजे 729) 

Friday, January 13, 2012

सोच-समझ कर करें मतदान

मतदान करने की जिम्मेदारी प्रत्येक उस व्यक्ति की है जिसका नाम मतदाता सूची में दर्ज है. योग्य, ईमानदार और समाज में साफ़-सुथरी छवि रखने वाले प्रत्याशी को ही अपना वोट देने का संकल्प सभी मतदाताओं को लेने की आवश्यकता है क्योंकि मतदाताओं के केवल अच्छे प्रत्याशी को ही वोट देने के सही निर्णय से ही देश के निर्माण और संपूर्ण विकास के लिए समर्पित विधान सभाओं का गठन संभव है.
मतदाताओं को बिना  किसी भय, लालच और स्वार्थ के अपने वोट का प्रयोग करना होगा. मतदाताओं को यह समझना  होगा कि उनका एक-एक वोट कीमती है. यदि मतदाता अपने राज्य में ईमानदार, निष्पक्ष,  योग्य और देश के लिए समर्पित जन-प्रतिनिधिओं  की सरकार चाहते हैं तो  उन्हें अपना वोट सोच-समझकर ही डालना होगा और अनिवार्य रूप से वोट डालने के लिए अपने साथी मतदाताओं को भी जागरूक करना होगा. 
मतदाताओं की जागरूकता का सीधा अर्थ है समाज और देश का संपूर्ण विकास. तो आईये एक जागरूक मतदाता के रूप में हम अपने देश के प्रति इस जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए मतदान अवश्य करें और हाँ, मतदान के लिए जाते समय अपने साथ वोटर आई डी कार्ड अथवा चुनाव आयोग द्वारा मान्य कोई भी एक पहचान पत्र अवश्य ले जाएँ वरना आपको मतदान करने से रोका जा सकता है. -- प्रमोद कुमार अग्रवाल