Friday, July 1, 2011

सीमा में रहकर ही करें कार्य

"" ज्ञान की कोई सीमा नहीं होती, लेकिन व्यक्ति को सीमा का ज्ञान होना  चाहिए. "" 
 किसी महापुरुष  का यह कथन इस तथ्य को स्पष्ट करता है कि हमें ज्ञान अर्जित करने के लिए हमेशा तत्पर रहना चाहिए, लेकिन हम जो भी कार्य करें उसे अपनी सीमा में रहकर ही करें. सीमा से बाहर जाकर किया गया कोई भी कार्य हमेशा तकलीफदेह ही होता है.
 किसी कार्य की सीमा क्या है यह बात उस कार्य की प्रकृति एवं परिस्थितियों पर निर्भर  करती  है. जीवन में सफलता पाने के लिए यह भी एक उपयोगी मन्त्र है और इस मन्त्र का उपयोग हमें सोच-समझ कर अपने विवेक से करना चाहिए. -- प्रमोद कुमार अग्रवाल