Thursday, January 13, 2011

सफलता के लिए सत्य के मार्ग से बढ़कर कोई और दूसरा मार्ग नहीं

सच्चाई की राह पर चलने वालों को तकलीफें तो उठानी पड़ सकती हैं, लेकिन उनकी विजय भी अवश्य होती है. महात्मा गाँधी जी ने भी सत्य के मार्ग को अपनाया और पूरे संसार में अपना नाम रोशन कर लिया. गांधी जी के सत्य मार्ग का ही प्रताप रहा कि आज देश की अदालतों में गाँधी जी कि तस्वीरें शोभायमान रहती हैं और हमें सत्य के मार्ग पर चलने की प्रेरणा देती हैं. यदि हम अपने जीवन में सफल होना चाहते हैं तो हमें सत्य के मार्ग को अपनाना चाहिए. सफलता के लिए सत्य के मार्ग से बढ़कर कोई और दूसरा मार्ग नहीं है.-- प्रमोद कुमार अग्रवाल