Sunday, October 16, 2011

सफल होने के लिए ...

जीवन में सफल होने के  बहुत से तरीके हैं और लोग अपने-अपने ढंग से उनका उपयोग करके जीते हैं.  यहाँ हम कुछ ऐसी बाते बता रहे हैं जो बहुत आसान हैं और हम सब उनके बारे में जानते भी हैं. 
सबसे पहले हम अपने जीवन को अनुशासित बनायें और पूर्ण रूप से अनुशासन के दायरे में रहकर ही अपना कार्य करें 
विश्वास किसी भी सफलता की बुनियादी नीव है. सफल होने के लिए हमें अपने आप पर और अपनी प्रतिभा एवं अपनी शक्तियों पर भरोसा करना चाहिए. तन और मन से पूर्ण रूप से स्वस्थ होना भी जीवन में सफल होने का महत्वपूर्ण मन्त्र है. इसके लिए हमें स्वास्थ्य के प्राकृतिक  नियमों का पालन अवश्य करना चाहिए. 
जीवन में सफल होने के लिए यह भी अनिवार्य है कि हम अपनी प्राथमिकताएं निर्धारित करते समय भावुकता का परित्याग कर दें. अपने काम के दौरान सोच-समझ कर पूरी सूझ-बूझ से और अपनी योग्यता से उचित निर्णय लें. जो भी काम हाथ में लें उसे जिम्मेदारी के साथ चुनौती के रूप में पूरा करने का प्रयास करें. सफलता के लिए इन मूल मन्त्रों को यदि हम अपने जीवन में अपनाएं  तो कोई कारण नहीं कि हम जीवन में सफलता की ऊंचाइयों पर न पहुंचें. -- प्रमोदकुमार अग्रवाल
 

Wednesday, October 12, 2011

अधिकार और कर्तव्य

अधिकार और कर्तव्य एक ही सिक्के  के दो पहलू  हैं.
 एक के बिना दूसरे का अस्तित्व कदापि संभव नहीं है.  जब हम अधिकारों की मांग करते हैं तो हमें इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि हम अपने कर्तव्यों के पालन के प्रति भी गंभीर रहें. कर्तव्यों का पालन किये बिना अधिकारों की मांग करना अनुचित है. हमें यह भी अवश्य ध्यान रखना होगा कि एक व्यक्ति के अधिकार दूसरे व्यक्ति के लिए कर्तव्य होते हैं.  हमारे अधिकारों की मांग से किसी व्यक्ति को कोई नुक्सान भी नहीं होना चाहिए.
अधिकार हमें सरकार द्वारा बनाये गए नियम - कानूनों के माध्यम से प्राप्त होते हैं. यदि हम अधिकारों के प्रति जागरूक होना चाहते हैं तो हमें सभी आवश्यक नियम - कानूनों की जानकारी  होनी चाहिए. हमारी जागरूकता ही हमें अपने अधिकार और कर्तव्यों के प्रति सचेत और समझदार बना सकेगी इसमें कोई संदेह नहीं है.
 -- प्रमोदकुमार अग्रवाल