Saturday, May 21, 2011

मदद करने से ख़ुशी मिलती है

किसी की मदद करने के लिए यह ज़रूरी नहीं है कि हमारे पास पर्याप्त धन-दौलत अथवा आर्थिक संसाधन हों. हम अपनी योग्यता, शिक्षा, मानसिक और शारीरिक क्षमता का प्रयोग  करते हुए भी  किसी ज़रुरतमंद की हर संभव मदद कर सकते हैं. यदि हमारे अन्दर किसी की मदद करने का वास्तव में ही ज़ज्बा है तो हम दिल से किसी की भी मदद करने के लिए आगे आ जाते हैं. मदद  करने के बहुत से तरीके हैं जिनमें हमारा कुछ भी खर्च नहीं होता जैसे - किसी अनपढ़ व्यक्ति को पढाना, सड़क पार कर रहे किसी बुज़ुर्ग, दृष्टिहीन, छोटे बच्चे आदि को सड़क पार कराना, प्यासे व्यक्ति को पानी पिलाना, दुखी अथवा बीमार व्यक्ति को सबकुछ अच्छा होने की
दिलासा देना  आदि. 
इसमें कोई संदेह नहीं कि सच्चे   दिल से किसी की मदद करने से जो ख़ुशी मिलती है वह किसी दूसरे कार्य से हासिल नहीं होती. यदि हम वास्तव में ही किसी की मदद करना चाहते हैं तो हमें अपने नाम के प्रचार के चक्कर में न पड़कर अपने शरीर, मन  और योग्यता का भरपूर उपयोग  करते हुए सभी ज़रुरतमंद की मदद करने के लिए सदैव  तत्पर  रहना चाहिए.  -- प्रमोदकुमार अग्रवाल     
                                                                                                                    .                   

Wednesday, May 18, 2011

नाम के लिए काम ज़रूरी

जीवन में हर इंसान चाहता है कि उसका नाम हो और लोग उसे उसके नाम और काम से जानें. इसके लिए वह जीवन भर कोशिश करता है, लेकिन हर इन्सान के भाग्य में नहीं होता है कि  उसके नाम से उसकी  पहचान हो. साफ़-सुथरी छवि को बनाना और उस छवि को बनाये रखना आसान नहीं है. समाज में अच्छी छवि उन्हीं लोगों की बनती है जो हमेशा समाज के हित में स्वार्थ की भावना को त्याग करके काम करते हैं और अपने अन्दर आदर्श गुणों को आत्मसात करते हैं.
समाज, देश और संसार में नाम करने के लिए हर कोई अपने-अपने तरीके से प्रयत्नशील रहता है. नए-नए रिकोर्ड बनाना, खेल,शिक्षा, ज्ञान-विज्ञान राजनीति, सर्विस, व्यापार, व्यवसाय आदि  सभी क्षेत्रों  में काम करने वाले लोग यही कोशिश करते हैं कि वे उस क्षेत्र में इतनी तरक्की करें कि लोग उसके नाम और काम से जानने लगें. कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती, इस बात में  कोई  संदेह नहीं. यदि हम चाहते हैं कि हमारा नाम हो तो हमें हमेशा अपने-अपने कार्य क्षेत्र में रहते हुए जन हित के कार्य करने चाहिए और कोई भी ऐसा कार्य नहीं करें जिससे हमारे नाम पर धब्बा लगे. यक़ीनन हमारी ये कोशिश हमें समाज में बेहतर जगह दिलाएगी तथा लोग हमारे नाम से हमें जानेंगे. --- प्रमोदकुमार अग्रवाल