Tuesday, December 7, 2010

लेन-देन न करने पर निष्क्रिय हो सकता है खाता

बैंक में खाता खोलकर उसमें दो वर्ष तक लेन-देन न करने वाले खाता धारक अब सावधान हो जाएँ, अन्यथा उनका खाता निष्क्रिय हो सकता है. भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार बैंक खाते में लगातार दो वर्ष तक लेन-देन न करने पर वह खाता स्वतः ही बंद माना जायेगा. इस लेन-देन का मतलब खाते में पैसा जमा करना, पैसा निकलना, किसी अन्य व्यक्ति द्वारा पैसा जमा कराना या किसी अन्य को पैसा देना है. लगातार दो वर्ष तक खाता धारक द्वारा खाते का सञ्चालन  न करने पर बैंक उस खाता  धारक को पत्र लिखेंगी और इसके बावजूद यदि इस तरह का कोई भी क्रिया-कलाप खाता धारक द्वारा नहीं किया जायेगा तो वह खाता निष्क्रिय हो जायेगा.[न्यूज़लाइन आगरा]