Monday, December 6, 2010

म्युचुअल फंड निवेशकों के लिए पैन का उल्लेख करना अनिवार्य

म्युचुअल फंड में निवेश करने पर अब  वर्ष 2011  में निवेशकों को आय कर विभाग द्वारा जारी स्थाई लेखा संख्या [पैन] का अनिवार्य रूप से उल्लेख करना होगा. यह नियम नए पुराने सभी निवेशकों पर लागू होगा. म्युचुअल फंड उद्योग  की संस्था ए.एम्.ऍफ़.आई. ने सभी फंड हाउसों को निर्देश दिए हैं कि वे सभी निवेशकर्ताओं से पैन मांगें. इसका उद्देश्य धोखाधडी  तथा धन के गैर क़ानूनी  लेन-देन [मनी लौन्डरिंग]  पर रोक लगाना है. भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड [सेबी] द्वारा भी वर्ष 2007  में शेयर बाज़ार से जुड़े सभी तरह के लेन-देन के लिए पैन का उल्लेख करना अनिवार्य बनाया गया है.-- प्रमोदकुमार अग्रवाल, एडवोकेट [न्यूज़लाइन आगरा]