Tuesday, November 16, 2010

यात्री के परिजनों को हर्जाना

रेल अथवा परिवहन निगम की बस में यात्र कर रहे यात्री के चोट लग जाने  अथवा उसकी मृत्यु हो जाने की दशा में उसे अथवा उसके परिजनों को हर्जाना दिए जाने के सम्बन्ध में इलाहाबाद हाई कोर्ट द्वारा दो अलग-अलग निर्णय पारित किये गए हैं. एक मामले में ट्रेन में चढ़ते समय ट्रेन के चल देने के कारण गंभीर रूप से घायल यात्री के अस्पताल में मृत्यु हो गयी. रेलवे का कहना था कि  यात्री ने आत्महत्या की  थी. हाई कोर्ट ने रेलवे के तर्क को निरस्त करते हुए यात्री के परिजनों को हर्जाना दिलाया. (2010 (5)ALJ535)
दूसरे मामले मे बस की छत पर यात्रा कर रहे यात्री की बस दुर्घटना में मृत्यु हो जाने पर हाई कोर्ट ने उसके परिवार वालों को हर्जाना पाने का अधिकारी माना और सम्बंधित बीमा कंपनी को आदेश दिया कि वह मृत यात्री के परिजनों को हर्जाना अदा करे. (2010 (5)ALJ405)-प्रमोद कुमार अग्रवाल, एडवोकेट