Thursday, July 15, 2010

कर्मचारी राज्य बीमा अधिनियम में हुए संशोधन

कर्मचारी राज्य बीमा अधिनियम में हुए नए संशोधनों के अनुसार अब उन सभी कारखानों और प्रतिष्ठानों को इस कानून के  दायरे मे ले लिया गया है जिनमे दस या अधिक कर्मचारी 15  हज़ार तक के मासिक वेतन  पर  काम करते हैं.25  वर्ष तक की उम्र वाले पुत्र को भी कर्मचारी का आश्रित माना जायेगा और वह सभी हित लाभों को पाने का अधिकारी होगा. घर से कार्यस्थल और कार्यस्थल से घर जाते समय होने वाली दुर्घटना को सेवाकाल की दुर्घटना माना जाएगा और ऐसी दशा मे कर्मचारी या उसके आश्रित उचित हर्जाना और हित लाभ पाने के अधिकारी होंगे.
प्रत्येक कर्मचारी को ये मालूम होना चाहिए की इस कानून के तहत उसे मिलने वाले वेतन मे से 1 .75 प्रतिशत की कटौती अंशदान के रूप मे की जाती है, जबकि मालिक या नियोजक द्वारा  4 .75 प्रतिशत अंशदान दिया जाता है जो ईएसआई निगम मे जमा होता है     [--प्रमोदकुमार अग्रवाल,एड्वोकेट, [ सदस्य : हाई कोर्ट बार एसोसिएशन,इलाहाबाद]

No comments: