Wednesday, March 17, 2010

हँसना ही जिंदगी है

एक दार्शनिक का कथन है कि किसी को नाराज करने में  एक मिनट भी नहीं लगता है,  लेकिन किसी को हंसाने मैं घंटो बीत जाते हैं . इस कथन में सच्चाई है कि हमें किसी को नाराज नहीं करना चाहिए क्योंकि दूसरो की नाराजगी से हमारे दिल को भी ठेस पहुँचती है .हमें दूसरो को बेमतलब नाराज करने की  मानसिकता छोडनी होगी . हम खुद भी हँसे और दूसरो को भी हँसाते रहे . हमें याद रखना चाहिए कि हँसना ही जिंदगी है . हमेशा  हँसते रहना सेहत के लिए एक अच्छा टोनिक हे. जिसके लिए हमें कुछ भी खर्च नहीं करना पड़ता हे. हम हमेशा प्रसन्न रहें इसके लिए यह जरुरी है  कि हम अपने अंदर से क्रोध, गुस्सा, आलोचना और नकारात्मक विचारों को हमेशा के लिए दूर कर दें,  दूसरों के हित का चिंतन करें और दूसरों के साथ उसी प्रकार का व्यवहार करें जैसा  कि हम अपने  लिए चाहते  हैं-- प्रमोद कुमार अग्रवाल, एडवोकेट एवं पत्रकार

No comments: