Monday, March 8, 2010

हमारे अधिकार

अधिकार हमारे संपूर्ण विकास के आधारभूत तत्त्व हैं. अधिकारों के बिना मनुष्य का विकास कतई संभव नहीं है. भारतीय संविधान में प्रत्येक भारतीय नागरिक को कुछ मौलिक अधिकार प्रदान किये गए हैं जैसे   समानता का अधिकार, स्वतंत्रता का अधिकार, जीवन का अधिकार, व्यक्तिगत सुरक्षा का अधिकार, संस्कृति और शिक्षा का अधिकार, शोषण के विरूद्ध अधिकार, धार्मिक स्वंतंत्रता का अधिकार, न्यायालय में मुकदमा करने का अधिकार, आदि . यदि कोई व्यक्ति किसी के अधिकारों का हनन करता है तो पीड़ित पक्ष अपने अधिकारों के संरक्षण के लिए भारतीय संविधान के अनुच्छेद 226  के अंतर्गत हाई कोर्ट में तथा अनुच्छेद 32  के अंतर्गत सुप्रीम कोर्ट में रिट याचिका दायर कर सकता है. -- प्रमोद कुमार अग्रवाल, एडवोकेट एवं पत्रकार  [ न्यूज़लाइन आगरा ]

No comments: